Sunday, January 17, 2021

किस गड्डी में बैठे हो

 मिट्टी


चारों तरफ जंगें चल रही हैं

और हम तुम प्यार की बातें करते हैं

कई हमारी हरकतों से परेशान हैं

कहते हैं कि ओए, किस गड्डी में बैठे हो

सामने भारत माता की जै तो लिखा नहीं है

उन्हें अनदेखा कर हम एक दूसरे पर मिट्टी मल रहे हैं


मिट्टी मलते हुए हम धरती को एक दूसरे से साझा कर रहे हैं

धरती के आँसू हमारे पसीने में घुल रहे हैं

हमें किसी से कुछ नहीं कहना है

वे एक दूसरे की हत्या कर शहीद कहलाते हैं

हम मिट्टी में कीड़ों से दोस्ती करते हैं

जंग का शोर हमें छू नहीं पाता

अमेरिका और हिंदुस्तान किसी से लड़ते रहते हैं

हम कविताएँ पढ़ते रहते हैं।            (2016; अकार - 2021)

Saturday, January 16, 2021

बचपन के पहाड़

 मौसमी भौमिक के एक और गीत का अनुवाद : 

बचपन के पहाड़ मुझे बुलाते हैं

हवाओं के झोंके माँ की महक ले आते हैं

शाम को लुकाछिपी बाँस के झुरमुट बीच

माँ की महक, 

ठंडी हवाओं के झोंके माँ की महक ले आते हैं

बचपन के …

ठंड की दोपहर, धूप में लिपटी छोटी-सी दुपहरी की बेला

खेल-दौड़ में बिताए दिन, सुबह-दोपहर खेल-खेला

बचपन की धूप में लिपटी दोपहर बुलाती है

संतरे की महक, 

हवा संतरे की महक लाती है

बचपन की …

शाम अँधेरे से पहले दोनों आँखें मूँद

बचपन के पहाड़ मैं लेती हूँ ढूँढ

अचानक मेरे पहाड़ को ढँक देती है गर्द की चादर

बचपन की राह खो जाती है कोलकाता के मोड़ पर

फिर भी बचपन फिर से बुलाता है

धूल धुँए में माँ की महक होती है

फिर भी बचपन फिर से बुलाता है

धूल धुँए में संतरे की महक होती है।

यह जो उफान है

 यह कविता दो हफ्ते पहले फेसबुक पर पोस्ट की थी - 


वक्त आएगा


वक्त आएगा वक्त आएगा वक्त आएगा

कि हम दरख्तों के बीच सुर्ख राहों पर चलेंगे

हमारे कदमों की आहटें आपस में गुफ्तगू करेंगी


राह पर पड़ी सूखी पत्तियाँ खुशामदीद कहने को उठ खड़ी होंगी।

उनके पीलेपन में से अदरक की शराब की खुशबू आएगी।


सारे परचम एक दरख्त के पास रख कर हम फिर

किसी शाम दरख्तों में गुम हो चुकी बातें करेंगे।

हम फिर साथ खुशी के गीत गाएँगे


यह जो उफान है

यह हमारी सदियों से जमा हो रही पीर है

हमने देखा कि दरख्तों पर ढेर सारी राख गिर चुकी है

हर शाख पर कुम्हलाई पत्तियाँ चुपचाप

देखती हैं कि पंछी बसेरा छोड़कर

कहीं दूर चले जा रहे हैं


हमने देखा कि शैतान अपनी शोहरत के नशे में अंधा है

हमारी पीर 


उदास नदी बन कर बहती है

क्या नहीं है पानी में

ढूँढो तो तैरते हुए हमारे सपने दिख जाएँगे

शैतान की शोहरत आज दिखती है

हमारी पीर का सैलाब उसे बहा ले जाएगा

वक्त आएगा हम फिर

किसी शाम दरख्तों में गुम हो चुकी बातें करेंगे।

हम फिर साथ मिल कर खुशी के गीत गाएँगे

मैंने सुना है कि


 इसलिए कि सपने देखूँगी (स्वप्नो देखबो बोले)


दो साल पहले कभी मौसमी भौमिक (मोऊशूमी भोऊमीक) के  इस गीत का अनुवाद करना शुरू किया था, अधूरा छोड़ कर भूल गया था। आज फिर देखा तो पूरा किया।


 मैंने सुना है कि उस दिन तुम

सागर की लहरों पर चढ़

नीले पानी का फ़क़ छू आए हो।

मैंने सुना है कि उस दिन तुम

खारी रेत के किनारे

बहुत दूर कहीं दूर पैदल घूम आए हो।

मैं कभी पानी में नहीं गई

कभी नीले में नहीं तैरी

कभी न टिकाई नज़र पंख फैैलाई गंगा-चिल्ली पर

तुम फिर जब समंदर में नहाने जाओ, मुझे साथ ले चलना

बोलो, ले जाओगे न



मैंने सुना है कि उस दिन तुम

तुम तुम तुम सब ने मिल कर

सभा की थी

और कि उस दिन तुम सब ने

कई उलझनों की, अनकही कई बातें

बातें की थीं कि क्यों यूँ ही सब दौड़ रहे हैं

एक ही बात दुहराते चले हैं

खुदी के साथ खुद के लिए ज़िंदा हैं

जब प्यार ही नहीं है

बस अकेलापन आ घेरता है

कहाँ जाऊँ कि सुकून मिले

कहाँ जाऊँ बोलो, कहाँ जाऊँ



मैंने सुना है कि तुम सब आज भी

सपने देखते हो, आज भी अफसाने लिखते हो

जी भर कर गीत गाते हो

इंसान ज़िंदा है कि मर रहा आज भी तुम्हारी फ़िक्र है

तुम्हारा प्यार आज भी गुलाब बन खिलता है

बेयकीन दिल लिए दोनों हाथ पसारे तुम्हारे पास आई हूँ

आँखों के गहर में मुझे

बस दिखती है ख़ला

रात को नींद में कोई सपना नहीं आता

इसलिए सपने देखने खुली आँखें आई हूँ

इसलिए तुम्हारे पास आकर दोनों हाथ पसारे हूँ

इसलिए सपना देखने खुली आँखें आई हूँ

Saturday, January 02, 2021

देश हम सब का है

 किसान आंदोलन से देश क्या सीखे

-लाल्टू

(Newslaundry-Hindi में प्रकाशित – दिसंबर 2020)

क्या भारत के किसानों को आज पता चला है कि भारतीय झूठ पार्टी का सारा खेल नफ़रत की सौदागरी और झूठ का प्रपंच है, जो इनकी मूल संघी विचारधारा से निकलता है? ऐसा नहीं है, पता तो सबको था, पर आज वे बोलने लगे हैं। तो अब तक क्यों नहीं कह पाए थे? इस बात पर सोचना-समझना ज़रूरी है, क्योंकि किसान अपनी लड़ाई जीतेंगे और भाजपा तब भी रहेगी। दरअसल पिछले चार दशकों में भाजपा और खास कर मोदी-शाह ने मिलकर भारतीय राजनीति में एक अनोखा काम किया है। उन्होंने सियासत का केंद्र-बिंदु धीरे-धीरे धकेल कर ऐसी जगह ला खड़ा किया है, जहाँ बहुसंख्यकों में से एक बड़े हिस्से के लोगों का नैतिक संतुलन बिगड़ चुका है और उनके अंदर के शैतान इकट्ठे होकर नंगा नाच करने पर उतारू हैं। नवउदारवाद और वैश्वीकरणके साथ जो नया मध्य-वर्ग सामने आया, वह पूरी तरह से भ्रष्ट और खुदगर्ज़ है। आम लोगों ने इस नए वर्ग की बढ़ती माली ताकत को देखा और अपनी हताशा को शैतान के चरों के सामने बिछा दिया। हर किसी को लगने लगा कि जीना है तो डाकू-लुटेरा बनना पड़ेगा। इस चक्कर में जो कमज़ोर है, वह पिसे तो हमें क्या! सबसे ज्यादा कमज़ोर मुसलमान, दलित और औरतें हैं तो वे पिसें।


सियासत में झूठ, छल-फरेब. हमेशा ही रहा है। पर इंसानियत में कुछ बदलाव पिछली सदियों में आए हैं, जैसे कुछ तरह की हिंसाओं पर नियंत्रण होता लग रहा था, जिनमें नस्ली, जाति और जेंडर जैसी हिंसाएं हैं। भाजपा की राजनीति ने इस नियंत्रण के बरक्स आदिम और पाशविक प्रवृत्तियों को जगाया। आज किसान आंदोलन में लगातार यह बात सुनाई पड़ रही है कि किसान के हित मजहब और जाति की राजनीति से परे हैं। भाजपा की फिरकापरस्त सियासत पर खूब कहा जा रहा है। ऐसा लगता है कि बड़ी तादाद में लोग समझ गए हैं कि भाजपा संविधान विरोधी है। अगर आज मोदी और शाह हार मान लें और तीन 'काले' कानून वापस ले लें, तो क्या यू पी, हरियाणा और हिन्दी पट्टी के और प्रदेशों में किसानों में सीक्यूलर या धर्म-निरपेक्ष समझ बनी रहेगी? क्या वे अगले चुनावों में भाजपा का बहिष्कार करेंगे?

जोगिंदर सिंह उगराहां के नेतृत्व वाले भारतीय किसान यूनियन के गुट ने मानव अधिकार दिवस पर ज़बरन क़ैद किए बुद्धिजीवियों के खिलाफ प्रदर्शन किया, तो मुख्य-धारा के गुटों ने उस पर आपत्ति जताई। क्या यह महज रणनीति की बात थी कि गोदी मीडिया के दुष्प्रचार को रोका जा सके? या कि अभी भी कहीं संवेदनशीलता का अभाव है जो हमें वरावारा राव, स्टैन स्वामी जैसे अस्सी या ज्यादा की उम्र के बुज़ुर्गों की क़ैद पर कहने से रोकता है? बाक़ी भी जो क़ैद हैं वे भी जवान नहीं हैं। गौतम नवलखा और आनंद तेलतुंबड़े सत्तर के हैं, सुधा भारद्वाज साठ के क़रीब हैं। और जो जवान हैं भी, क्या उनको भी बिना किसी ठोस सबूत के मनगढ़ंत इल्ज़ाम लगाकर क़ैद कर दिया जाना ठीक है? ज़ुल्म के खिलाफ बोलने से हमें कौन रोकता है? कहीं यह वही शैतान तो नहीं जिसे मोदी-शाह ने जगाया है?


मोदी-शाह के हिसाब में गड़बड़ कहाँ हुई? दरअसल इंसान की फितरत ऐसी है कि शैतान और भगवान दोनों एक साथ उसके अंदर विराजमान होते हैं। शैतान का पलड़ा भारी होता है तो कहीं बेचैनी बढ़ती है और षडरिपु के घेरे में फँसा इंसान तड़पता रहता है। सही मौका मिलते ही शैतान पर इंसान हावी हो जाता है। इसीलिए इतिहास के ऐसे पुराने दौर लौट आते रहते हैं, जब हारे हुए लोग फिर-फिर उठ खड़े हुए हैं और जालिमों के खिलाफ इंकलाब हुए हैं। मौजूदा किसान आंदोलन आज़ादी और इंसानियत के वापस लौटने का ही क्रम है। इसलिए हालाँकि मुख्यधारा के नेतृत्व से सिर्फ कानूनों को हटाने की माँग या साथ में एक दो और माँगे जैसे पराली जलाने पर भारी ज़ुर्माना हटाना आदि ही सुनाई पड़ते हैं, पर आंदोलन में शामिल लोगों की बड़ी तादाद ने भाजपा और मोदी-शाह के झूठ के समंदर में डूबी और शैतानी फितरत को समझ लिया है। लोग किताबें पढ़ रहे हैं, गोदी मीडिया को नकारकर अपना अखबार 'ट्रॉली टाइम्स' पढ़ रहे हैं। सिंघु और दूसरे बॉर्डर पर बस चुके आंदोलनकारियों के गाँवों में पक रही इंकलाबी लहर देशभर में फैल रही है।


मोदी-शाह और संघ के षड़यंत्रकारियों ने आम लोगों के मन में यह बात फैला दी थी कि उनके अलावा देश में कोई मजबूत नेतृत्व बचा नहीं है। पिछले लोकसभा चुनावों में तख्ता पलट होने की जो हल्की सी संभावना दिख रही थी, उसे पैसे और ज़बर के छल-बल से पूरी तरह ध्वस्त कर दिया गया था। सच यह है कि यह ज़रूरी नहीं है कि देश को सुचारु ढंग से चलाने के लिए किसी एक पार्टी का वर्चस्व हो। जिस तरह का बहुराष्ट्री स्वरूप हमारे मुल्क का है, वहाँ यह वांछनीय भी नहीं है। कल्पना करें कि लोकसभा के सभी सदस्य मिर्दलीय हों। तो क्या देश कमज़ोर हो जाएगा? ज्यादातर लोग इस सवाल का जवाब हाँ में देंगे, पर यह सही नहीं है। चुने हुए प्रतिनिधि नए गुट बनाएंगे, प्रशासन संविधन के मुताबिक चलता रहेगा। दरअसल सरकार को प्रशासनिक ढाँचा चलाता है, उस पर नियंत्रण रखने और उसे दिशा देने के लिए संसदीय ढाँचा है, नयायपलिका है। कहने का मतलब यह नहीं कि ऐसा ही हो कि सिर्फ निर्दलीय ही चुने जाएँ। यह महज एक मिसाल के तौर पर बात है कि अगर ऐसा हो फिर भी कोई ज़रूरी नहीं कि संकट होगा। इसलिए मजबूत नेतृत्व की बात बकवास है। चुनावों में सिर्फ इसलिए कि कोई दावा करे कि उसका सीना 56 इंच का है, उसे वोट डालना बेवकूफी है। एक ऐसा राजनैतिक दल जो लगातार समाज को बाँट रहा है, नफ़रत फैला रहा है, उसके नेतृत्व पर यक़ीन करना खुदकुशी करने से कम नहीं है। अगर किसान आंदोलन के जरिए यह बात लोग समझ सकें तो यह इस आंदोलन की बड़ी सफलता होगी। सही है कि जब चुने हुए लोग भ्रष्ट नज़र आते हैं तो हताशा होती है। इसका हल यह नहीं कि उनसे भी ज्यादा भ्रष्ट और घिनौने लोगों को चुना जाए। सही रास्ता वैकल्पिक राजनीति के निर्माण का है। छोटे माली लाभों और जाति-धर्म के लिए हत्यारों के हाथ बिक जाना समझदारी नहीं है। हमें पूछना होगा कि कौन है जो सिर्फ उल्लू बनाने के लिए मीठी बातें नहीं कर रहा, बल्कि यक़ीनन चाहता है कि देश में हर बच्चा पढ़-लिख जाए, हर नागरिक स्वस्थ हो, हर कोई खुशहाल हो; उनके पास इसके लिए कैसी योजनाएँ हैं। अडानी-अंबानी को खरबपति बनाते हुए लोगों को राष्ट्रवाद के झूठे ख्वाब दिखलाने वाले तो वे नहीं हो सकते हैं।


फिलहाल चुनावों के अलावा बदलाव का कोई और विकल्प नहीं है। हाल के सालों में और आगे आने वाले चुनावों में जहाँ भी भाजपा से अलग दूसरे दलों की सरकारें हैं, भ्रष्टाचार से परेशान लोग और भाजपा के छल-बल के प्रभाव में लोग भाजपा को वोट दे देते हैं। हैदराबाद नगरपालिका के चुनावों में ऐसा हुआ और प. बंगाल में आने वाले चुनावों में भाजपा इसी उम्मीद से झूठ और नफ़रत का तंत्र बढ़ाने के साथ ही मौजूदा सत्तासीन दल से भाग रहे सुविधापरस्तों को साथ ले रही है। पर क्या भ्रष्ट दल का विकल्प और ज्यादा भ्रष्ट या फासीवादी शैतान हो सकते हैं? या कोई और विकल्प देखना चाहिए? इस बात को किसान आंदोलन उभार सके और वैकल्पिक राजनीति का निर्माण कर सके तभी आंदोलन की बड़ी सफलता होगी। पहला इम्तहान प. बंगाल के चुनाव होंगे। कोई शक नहीं कि मौजूदा सरकार और सत्तासीन दल को लेकर लोगों में व्यापक नाराज़गी है। पर चुनाव को सिर्फ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा के बीच की लड़ाई बनाना एक धोखा है। विपक्ष के कई दल मैदान में हैं। सी पी आई एम के नेतृत्व में वाम गुट और कांग्रेस तो हैं हीं, इसके अलावा दूसरी पार्टियाँ भी हैं, निर्दलीय भी हैं। इसी को ध्यान में रख कर कुछ लोगों ने 'नो वोट टू बीजेपी' का नारा उठाया है। इसके विपरीत कई यह मानते हैं कि इस तरह के नारे से मुद्दों से ध्यान हटकर भाजपा पर केंद्रित होता है। मसला यह है कि इस वक्त भाजपा का विरोध ही सबसे बड़ा मुद्दा है। मुल्क को हर तरह से विनाश के कगार पर ला खड़ा करने वाले फासिस्टों को शिकस्त देना इस वक्त की बड़ी ज़रूरत है। मोदी-शाह और उनके गुलाम मोदी जितने भी झूठ फैलाते रहें, मुल्क की माली हालत भाजपा शासन के दौरान लगातार बिगड़ती रही है, यह हर कोई जानता है। तालीम या सेहत जैसे बुनियादी खित्तों में भारी गिरावट आई है। जो उनके साथ हैं, वे भी ये बातें जानते हैं, अपने निहित स्वार्थ की वजह से एक खयाली दुनिया में खुद को और दूसरों को धोखा देने की व्यर्थ कोशिश में लगे हुए हैं।


आज किसान ही नहीं, सारा देश आर-पार की स्थिति में है। सरकार के साथ बातचीत में किसान जो भी मुद्दे उठाएँ, जनता को हालात से निपटना होगा। देश मोदी-शाह और अडाणी-अंबानी का नहीं, हम सब का है। किसान आंदोलन ने हमें मौका दिया है कि इस संकट को हम गंभीरता से लें। प. बंगाल के चुनावों में भाजपा के खिलाफ हर कोई एकजुट हो, यही वक्त की माँग है। यह सबक हमें किसान आंदोलन से लेना है।

Wednesday, December 23, 2020

बड़ा दिन

 बड़ा दिन आ रहा है

किसानों का बड़ा दिन


धरती और सूरज के अनोखे खेल में


उम्मीद कुलांचे भरती है




दिन बड़ा हो जाएगा


जाड़ा कम नहीं होगा


लहर दर लहर ठंड हमारे ऊपर से गुजरेगी


और तानाशाह दूरबीन से हमें लाशें उठाते देखेगा




वक्त गुजरता है


दरख्तों पर पत्तों के बीच में से छन कर आती सुबह की किरण


हमें जगाती है


एक और दिन


हत्यारे से भिड़ने को हम तैयार हैं




दोपहर हमारे साए लंबे होते जाते हैं


फिलहाल इतना काफी है कि


तानाशाह सपनों में काँप उठे


कि हम आ रहे हैं


उसके ख्वाब आखिर अधूरे रह जाएँगे


जिन पंछियों को अब तक वह कत्लगाह तक नहीं ला पाया है


हम उनको खुले आकाश में उड़ा देंगे


और इस तरह वाकई एक नया साल आएगा




रात-रात हम साथ हैं


सूरज को भी पता है


जाने से पहले थोड़ी सी तपिश वह छोड़ जाता है


कि हमारे नौजवान गीत गाते रहें


हम हर सुबह उठ


समवेत गुंजन करते रहें कि जो बोले सो निहाल


कि कुदरत है


सत्


श्री


और अकाल!