Monday, July 16, 2018

पानी बह गया है


चमक
चौंधियाती चमक
है ज़मीं के ऊपर।
हीरे खदानों में दबे पड़े हैं।
ज़मीं पर खुद को धोखा देते हम खुश हैं।
पानी की चमक से मुहावरा बना कि जल जीवन है।
प्याले से लेकर आँखों की तराई तक आत्मा की चमक दिखी।
त्सुनामी ने अश्कों और प्यार में डूबे गीत कुचल डाले।
पानी को पारदर्शी रहना है।
रेगिस्तानों, बीहड़ों, दलदलों से बचते चमक बनाए रखनी है।
कभी-कभार खयाल आता है कि पानी बह गया है।
छलती चौंध में जिजीविषा उठती है चमक वापस लाने।
पानी वापस लाने।
(वागर्थ - 2018)


Saturday, July 14, 2018

इसलिए मेरे अवसाद से डरता है


आम


भला आदमी

तकरीबन तंदरुस्त

ईमान की कमाई में सुबह शाम जुटा।



सुबह मुझे पूछता है

इस तरह की खबरें पढ़कर आपको अवसाद नहीं होता

पूछता है मुस्कुराता है

चिंतित मेरे बारे में



वह पढ़ता है, जैसे 'साइंस टूडे' पत्रिका

या 'पंजाब केसरी' अखबार। भगवान से डरता है

इसलिए मेरे अवसाद से डरता है।



वह जानता है कारण

मीलों दूर होती हत्याओं के

उसे चिंता नहीं होती अपनी

पत्नी या बेटी की

जिन्हें देखता मैं हर रोज खबरों में।

(दस बरस : दूसरी जिल्द-2002)

Friday, July 13, 2018

जिस्मों पर बलखाते हम


बादल
ज़मीं आस्मां के बीच धूप से बतियाते
हम वहाँ भी बरसते हैं जहाँ हत्याएँ हो रही हैं। मिट्टी हिन्दू-मुसलमान नहीं होती। निहतों और हत्यारों के जिस्म से बहते पानी की उत्तेजना हम
राम-कृष्ण-बुद्ध और दीगर पैगंबरों पर बरसते
आपस में टकराते ग़र्म ज़मीं पर ठंडक लाते। समंदर की लहरों को प्यार से चूमते। नंगे जिस्मों पर बलखाते हम।
(वागर्थ - 2018)

Wednesday, July 11, 2018

पत्थरों को देखकर कुछ याद आता है

ठोस
बच्चे अकसर सड़क पर चलते ठोस पत्थरों को उठाकर जेब में रख लेते हैं। बचपन में पत्थरों से खेलने की याद वयस्क मन में भावनाओं का उफान लाती है। वयस्क पत्थरों को सजाकर रखते हैं। इन पत्थरों को देखकर कुछ याद आता है। खोया हुआ प्यार, भूल चुकी छुअन।
यादें भोली होती हैं। जंग-लड़ाई-मार, ज़ात-मजहबों से परे। पत्थर को हाथ पर रखते हुए लगता है कि हर कोई जीवन में ठोस रिश्ते चाहता है। चुपचाप प्यार आता है ठोस।
(वागर्थ - 2018)

Tuesday, July 10, 2018

सचमुच ठोस वह जो हर किसी को नाज़ुक दिखता - प्यार


नाज़ुक
जिस्म बड़ी नाज़ुक चीज़ है। छोटा सा छुरा चमड़ा चीर देता है और जिस्म में हर कुछ जो ठोस है धराशायी हो जाता है। फौज-पुलिस के गोली-डंडे ठोस हड्डियों को चूरमचूर कर देते हैं। विज्ञान में ठोस और द्रव का फ़र्क पढ़ते हैं, बहता तो पूरा जिस्म है। गोलियों से छलनी जिस्म में से ठोस सपने उड़ जाते हैं और किसी और नाज़ुक जिस्म में बस जाते हैं। धरती और आस्मां भी नाज़ुक हैं। खरबों साल बाद आग का गोला जो सूरज है, ठोस दिखता गैस का बवंडर खत्म हो जाएगा। आखिर में कोई नहीं जीतता, न इंसान, न आस्मां। फौज-पुलिस तो कभी नहीं जीतती।
सचमुच ठोस है वह जो हर किसी को नाज़ुक दिखता है - प्यार।
(वागर्थ - 2018)

Monday, June 25, 2018

आस्था के सवाल पर बीस साल पुराना एक abstract


'आस्था' पर फेसबुक पर गौहर रज़ा के एक पोस्ट को ज्योति थानवी ने शेयर

किया तो मुझे अपना एक व्याख्यान याद आया जो मैंने पंजाब विश्वविद्यालय के 

सांध्यकालीन अध्ययन विभाग (Evening studies) के एक कॉन्फरेंस में 

दिया था। इसके लिए लंबा abstract तैयार किया था, जो संयोग से मेरे पास

है। वैसे मेरा एक अंग्रेज़ी ब्लॉग भी है, पर उस पर पोस्ट किए साल गुज़र गए 
,  
इसलिए यहीं डाल रहा हूँ। जब मैंने यह भाषण दिया था, विज्ञान के दर्शन पर 

मेरी पढ़ाई शून्य के बराबर थी। बेहतरीन वैज्ञानिकों के साथ काम करने का

अनुभव मात्र था। आज दुबारा पढ़कर यह बड़ा अपरिपक्व सा लगता है, फिर 

लिखना हो तो मेरी भाषा बिल्कुल अलग होगी। पर मूल सवाल और चिंताएँ 

कोई  खास बदली नहीं हैं। मैं अब भी यही मानता हूँ कि हमारे अंग्रेज़ी वाले

उदारवादी बंधु पश्चिमी भागम-दौड़ में शामिल होने की जल्दी में अपनी 

ज़मीनी सचाइयों  से अलग सैद्धांतिक समझौते करते रहते हैं।





Reading a post of Gauhar Raza on Facebook shared

by  Jyoti Thanvi, I rememebered a long abstract I had

submitted for a talk in a conference organised by the

department of Evening Studies of Panjab University

twenty years ago. I have a blog in English too, but I

have not posted anything there for years, so I am

posting it here. When I spoke in that conference, my

reading in philosophy of science was nearly null. All I

had was experience of working with some of the best

minds in science. Reading it today I find it rather

immature, and if I had to write it again, I will have a

very different expression. But the fundamental issues

will remain the same. I still believe that in the rush to

join the western rat race, our English wallah liberals

compromise heavily on our ground realities.





We, Astha Ka Sawal and Science


Presented in DES conference at ICSSR, PU, Chd, Dec 1998




Abstract



'Are you a believer?' - Most of us face such a question every once in a while. It used to have a clear meaning - do you believe in God, the creator, or arc you an atheist? Many of us belonging to the new tradition of liberalism developed in this country over the last two centuries have learnt to dodge the question by using words like 'agnostic' in the sense of believing in all 'Gods' or all 'religions'. In a way, it is ridiculous because many of the later religions (Judaic - Judaism, Islam and even Sikhism) do not really allow the possibility of many Gods and hence believing in one is sacrilegious from the point of view of other religions. Most typical journey of an enlightened liberal would be from being a naive believer until early teenage to a rigid atheism and back to a tolerant scientific temper. Unfortunately, we 'the liberal' in this country go beyond being tolerant, mostly against the interests of the people at large.



In answering the simple question about whether or not one is a believer there is a hypocrisy in the collective middle class culture that is prevalent almost everywhere in India. In fact, the question has grown in its implications from a matter of believing in God to believing in the hegemony of a culture of 'religion' that is determined by people who have no hesitation in using force to express themselves as well as in eliminating opposition to their views. A bit of soul-searching will reveal that essentially we are victims of a fear of this community culture that has acquired the character of a hegemony in recent times. Many of us express it as an inability to tackle the so-called 'Astha ka Sawal.' The response to the rising communalism in the eighties culminating in the fascist take over and spread of the culture of hatred in the nineties, by the liberals has been one of succumbing to this hegemony. There has been a realisation that 'religionism' (aka astha) does not constitute the beliefs of those whom the liberals have seen as the victims of a religious culture, rather it comes from the power of organised goons of a primitive culture that presents a real physical threat to survival. Thus explaining it away as a matter of someone else's faith was replaced by actually believing that it is indeed a matter of faith.



This shift in liberal thinking from opposing the obscure to not merely tolerating but going even further in explaining and justifying it can be seen in its rather indifferent attitude to events of grave significance since the beginning of this decade and all the way to the Congress president declaring that a certain kind of Hindutwa is an inherent part of the Indian ethos. We propose that this callous response to a monstrous reality has occurred simultaneously with a crisis in critical thinking that sees reality as fragmented and wrongly places the failure of reason in spreading throughout the society on a so-called 'instrumental rationality' of science and scientific thinking. We see a clear relationship between the rise of fascist nationalism that attempts to suppress the expressions of small nationalities and political formations, and the communal forces that have raised the slogan of 'astha above all' similar to the 'Deutschland Uber all' raised by the Nazis in Germany of the thirties and the withdrawal of the liberals from a serious faith in scientific thinking to succumbing to the threat from the right.



While head-on opposition to the fascist right has no meaning, looking for a source of the political reality of communalism in 'belief systems' is equally void and if anything, it merely exposes the bankruptcy of the liberals. Responding to claims based on confused mixing of myths and history in terms of evidence and documentation is merely an attempt to approach objectivity. If lack of objectivity does not hurt anyone, it may be allowed. For instance, the simple belief in solace from devotion to one or more Gods does not cause injury to anyone. It is, indeed, ridiculous to question this kind of 'belief.' To invoke words like 'rationality' or its antonym for every such instance is being insensitive. However, when 'worship' means early morning decibel-blast from places of worship or taking over public property (as for instance, in this university an ex-VC used his office to lay the foundation of a temple), this hurts the interests of people at large and should very clearly be called a crime. There are cases of a religious group dictating how we must look at old works of literary relevance as historical works and simultaneously revere them. In many such instances, we find an entire class of liberals bowing down to the hegemony of religionism and simply accepting the crimes as a matter of beliefs of some people.



Scientific temper is often misread as a rigid intolerant response towards spiritual beliefs. Science is accused of being based entirely on a reductionist methodology. In reality, the reductionism of science is limited to procedural simplification of complex data or phenomena to simple terms. After fragmenting a natural system into its various components that interact in complex manners, science attempts to build up theories of irreducible wholes. In fact, nothing can be more spiritual than a scientific quest for the origin of natural forces and the universe. There are serious debates within science about holistic and reductionist approaches. The search for a grand unified theory of interactions is the search for a holistic science. Reductionism has its own merits and practitioners of science can give numerous examples of how the two approaches are not exclusive of each other.



Interestingly, while the liberals, who started off as believers in scientific temper, went through the undesirable tempering and eventually fearing to express their belief in science, the reactionary religionists have used the results of scientific endeavour to the fullest. Every place of worship has the latest equipment for loud music. It is the believers of Rama-Rajya, who went to the extent of celebrating the insane nuclear explosions and later massive enhancements of the military budget to show their goals and that they would stop at nothing to achieve them.



A large number of mainstream scientists belong to this liberal intelligentsia. They practise science and yet they participate in such obscure things as rituals and community activities in the name of religion. Most of these activities have become a nuisance to civil society and yet there can be no opposition to them because of the hegemony of religionism. It is such scientists who have celebrated the nuclear explosions though many more sensible minds showed courage to express their opposition to the bombs.

The year 1998 witnessed the bizarre concept of a nation of millions that go hungry every night and have no notion of shame in living like animals, risen to fight the monopoly of the nuclear club. The hollowness of this claim became obvious pretty soon. What became clear during the misinformation campaign launched by the Government immediately after the nuclear explosions is that the liberal intelligentsia has completely surrendered itself to the fascist nationalism of the communal forces.



It is ironic that the obscurantists are probably going to be swept away eventually by the reality of gross poverty on the one hand and the irreversibility of globalisation and the advent of technology and market forces. As people's movements prepare to struggle for meaningful alternatives to market globalisation and for the preservation of the 'local'. we need to ask ourselves how we look at the role of liberals in this period of rapid transition to a new era.



Many of the problems of our nation-state are centered around the question of secularism and its opposite - communalism (in whatever sense these words make). Our problems with our neighbours are often related to this very dilemma. The issue of Kashmir has remained a contention between India and Pakistan not merely as an issue of territorial sovereignty, rather it has been an integral part of the tension between religious communities in this country. It is now obvious that there cannot be a solution to the problem within the conventional paradigm of nationalism. Facing the rising pressure from people to end hostilities and address the burning questions of basic need and development, the solution that the Governments of India and Pakistan are probably attempting to impose on the Kashmiris is a status-quo division of the state. It is unlikely to be acceptable to the people of the state. Globalisation of the economy, on the other hand, necessitates investment in sectors like literacy, basic education and health care, rather than on military spending. What should be the position of the liberals on this question? Should we not reconsider the notion of nationalism and lead the people in understanding that it is not a large territory, but fulfilment of basic needs of citizens that makes a country great? Possibly we could argue for a solution which could reduce the military budget drastically and shift national investments to sectors of greater priority and at the same time ensure lasting peace in the region. The only solution is open borders between the greater South Asian subcontinent with open trade similar to the European Union with a single currency and passport. Such a commonwealth can accommodate Kashmir as an independent participant. Is it possible for the liberals in this country to accept such a solution and fight the reactionary right that would rather keep our people starving and fighting with each other than lose an inch of territory where at present no peace loving citizen can step in?



We attempt to raise such questions in this presentation as we approach the coming century.





Sunday, June 17, 2018

इसी के लिए एकजुट होना है


झूठ, और झूठ – खतरा और भी है
(यह लेख कर्नाटक राज्य में हुए चुनावों के परिणाम आने के पहले लिखा था। 'उद्भावना' पत्रिका के ताज़ा अंक में इसके आने की उम्मीद है)

कर्नाटक के चुनाव हो गए। आगे और चुनाव आने वाले हैं। अगले साल की शुरूआत में संसद के चुनाव होने हैं। यह भी कहा जा रहा है कि सरकार इसी साल के आखिर में ही संसद के चुनाव करवा सकती है। एक जमाना था जब चुनाव उत्सव की तरह आते थे। पार्टी समर्थकों के पीछे छोटे बच्चे उछलते कूदले चलते थे। तुतलाती आवाज़ में नारे देते थे। फिर पता नहीं कब जैसे माहौल में ज़हर घुल गया। जगह-जगह से चुनावी प्रचार के दौरान हिंसा की खबरें आने लगीं। पहले प्रचार में प्रार्थी झूठे वादे किया करते थे। अब विरोधियों पर झूठ के हमले होने लगे। झूठ राजनीति का औजार है। कोई औजार जब ज़रूरत से ज्यादा इस्तेमाल किया जाए तो उसकी धार कम हो जाती है। औजार थोथा पड़ने लगता है। आखिर में वार उल्टे पड़ने लगते हैं। भारतीय झूठ पार्टी का इन दिनों यह हाल है। राजनेता दम लगाकर कहता है - विरोधियों के झूठ का पर्दाफाश करो। लोग समझ जाते हैं कि विरोधी इस वक्त सच बोल रहे हैं। कई बार तो जो कुछ भी ग़लत वह विरोधियों के साथ कर रहा होता है, उसका दावा यह होता है कि विरोधी उसके साथ ऐसा कर रहे हैं। कहते हैं हिटलर की नात्सी पार्टी के साथ प्रोपागांडा मंत्री रहे गोएवेल्स ने कहा था कि अपने अपराधों का भांडा दूसरों के सर फोड़ो। यही हमारे राष्ट्रनेता का मंत्र है। पर हिटलर और गोेबेल्स चले गए तो आज का झूठा कौन सा हमेशा कामयाब होगा। यानी अगर वह कहे कि विरोधी चोर हैं तो अब लोग जान जाते हैं कि वह कह रहा है कि वह खुद चोर है। जब वह दूसरों को गद्दार कह रहा होता है, हम जानते हैं कि वह खुद गद्दार है। कर्नाटक चुनावों के प्रचार में झूठ कहा गया कि फौजी जरनैलों थिमैया और करियप्पा के साथ कांग्रेस और नेहरू सरकार ने बदसलूकी की। लोगों ने जान लिया कि नेहरू ने ठीक इसका उल्टा किया और उनका उचित सम्मान किया।
2014 के चुनावों के पहले मैंने इस चिंता के साथ कई लेख लिखे थे कि नफ़रत की राजनीति बढ़ रही है और संघ परिवार और उनकी पार्टी की राजनीति हमारे अंदर के शैतान को बाहर लाने में जुटी हुई है तो कुछ दोस्तों को एतराज था कि मैं संघ और भाजपा के खिलाफ इतना क्यों लिख रहा हूँ। हो सकता है कि उनमें से कुछ समझ गए होंगे कि जिन मिथ्याओं को वे सच मान रहे थे, वे सच नहीं थे। हमेशा झूठ को सच बनाना आसान काम नहीं है। कई बार दुहराना पड़ता है। पैसा लगाना पड़ता है और प्रचार के लिए झंडाबरदारों के झुंड बनाने पड़ते हैं। लोगों के बीच अपनी बीमारी, यानी नफ़रत फैलानी पड़ती है। यह सब आसान नहीं है। कुछ वक्त तक तो आम लोग जानकारी के अभाव में सीना-पीटू भाषण से प्रभावित हो जाते हैं, पर ऐसा हमेशा होता ही रहे, यह मुमकिन नहीं है।
आम समझ यह होती है कि नेतृत्व का मतलब है देश या समाज को सही दिशा में ले जाना, यानी सामाजिक स्थिरता और आर्थिक तरक्की की ओर ले चलना। पर समाज का मनोवैज्ञानिक चरित्र भी होता है और जनता को भावनात्मक रूप से अपने वश में रखना, इस पर नेताओं को गंभीरता से सोचना पड़ता है। सोशल मीडिया की नई तक्नोलोजी का इस्तेमाल कर झूठ के तूफानी बवंडर से कायर लोगों की हीन भावनाओं को दबंगई और गुंडागर्दी में बदलने में भाजपा के दिग्गज माहिर साबित हुए हैंगुंडों का आधार बनाए रखने के लिए शीर्ष राजनेता घटिया स्तर तक उतर आता है। कर्नाटक चुनावों के प्रचार में छप्पन इंच जी ने विरोधियों को धमकी तक दे डाली। उनके मुख्य-मंत्री के दावेदार ने कहा कि लोगों के हाथ पैर बँधवाकर अपनी पार्टी को वोट डलवाओ तो राष्ट्रनेता ने विरोधियों को सीमा में रहने का फतवा दे डाला। हालात इस कदर नीचे गिर गए हैं कि इस पर अब कुछ लिखना मायने नहीं रखता। गटर में गंदगी है, यह कब तक लिखा जाए।
जिन पर बाक़ी झूठ आसानी से काम नहीं करते हैं, उन पर एक और झूठ लादा जाता है। वह यह कि कोई विकल्प नहीं है। कांग्रेस के जमाने में खूब भ्रष्टाचार हुए, इसलिए। सपा-बसपा आदि के नेता तो मजाक हैं, इसलिए। इसलिए हमें आँखें बंद कर लेनी चाहिए और चाहे मुसलमान मरे या दलित, वोट झूठ पार्टी को ही देना चाहिए। ज्यादातर लोग गंभीरता से सोचने के काबिल नहीं रह गए हैं। उनको यह सब समझ में नहीं आता कि सबसे अनिश्चित स्थिति में, जब सारे सांसद निर्दलीय हों, फिर भी माहौल फिरकापरस्त हिंसा की राजनीति से बेहतर होगा। मुल्क तो सरकारी अमला चलाता है, राजनेता तो अक्सर प्रशासन में अवरोध की तरह पेश आने लगे हैं। अगर अधिकतर सांसद बड़ी पार्टियों के न भी हो, तो कोई खास संकट नहीं आने वाला। आज की घटिया हिंसा और नफ़रत की राजनीति से तो कुछ भी अच्छा होगा। सच यह है कि और भी विकल्प हैं जिन पर सोचना ज़रूरी है। कभी कहा जाता था कि नेहरू गए तो क्या होगा। फिर यह कि कांग्रेस का विकल्प क्या है। देश की जनता ने कई बार दिखलाया है कि विकल्प कई हैं।
नफ़रत की विचारधारा पर आधारित झूठ पार्टी के समर्थक भी अब जानने लगे हैं कि वे झूठ के अंबार पर खड़े हैं, पर अब जो हो सो हो जैसी सोच के साथ वे अपने नेता के साथ हैं। जैसे कोई खेल हो। अपनी टीम के लोग फाउल कर रहे हैं तो क्या, हमारी टीम है तो हम उसी का समर्थन करेंगे। कई तो वाकई बीमार हैं, उन्हें जीवन जाति-धर्मों के बीच महासंग्राम दिखता है, जहाँ हिंसा और नफ़रत के अलावा कुछ नहीं है। उनका इतिहास, भूगोल, सब कुछ नफ़रत की ज़मीं पर खड़ा है। ये कट्टर संघी या तालिबानी हैं। पैसे और संगठन की ताकत से झूठ का तूफान खड़ा कर, विरोधियों में से कइयों को खरीद कर या उन्हें ब्लैकमेल कर चुप करवा कर और चारों ओर आतंक का माहौल पैदा कर संघ किसी तरह चुनाव जीतने के लिए जुट हु है। इसके अलावा ई वी एम मशीनों की कारीगरी का किस को पता है।
संभावना है कि झूठ, पैसा, ब्लैकमेल, आतंक, ई वी एम मशीनें, हर तरह के फूहड़पन के बावजूद संघ-परिवार आगे आने वाले चुनावों में जीत हासिल न कर पाए ऐसी स्थिति में दो बातों की प्रबल संभावना है। एक तो यह कि भारत और पाकिस्तान में जंग छेड़ दी जाएगी और दूसरी यह कि संघ परिवार अपनी सारी ताकत देश भर में फिरकापरस्त दंगे भड़काने में लगा देगा।
सालों पहले मैंने खेद जताया था कि ये लोग इंसान में असुरक्षा की भावना को भड़का कर हिंसात्मक प्रवृत्तियों को जगा रहे हैं, तो अक्सर पाठक फ़ोन कर पूछते कि मैं ऐसा क्यों लिख रहा हूँ। एक बार किसी ने कहा कि यह ठीक ही तो है कि 'उन लोगों' को दबाकर रखा जाए। 'वो लोग' बहुत ज्यादा चढ़ गए हैं। मैं फ़ोन पर उस डर और साथ ही दबंगई को सुन रहा था, जिसे जगाने में संघी काबिल हैं। डर जो इंसान को डरे कुत्ते की तरह खूँखार बना देता है। आजकल सीतापुर और कुछ और इलाकों में झुंड में आदमखोर कुत्तों की खबरें आ रही हैं। इनमें से कोई एक कुत्ता हमला नहीं करेगा, पर झुंड में वे आदमखोर बन चुके हैं। दबंगई और दरिंदगी गहरी हीन भावनाओं और कायरता से उपजती हैडर एक ऐसी आदिम प्रवृत्ति है जिससे शरीर में जैव-रासायनिक क्रियाएँ चल पड़ती हैं। जो महज भावनात्मक लगता है, वह कब हमारा जैविक गुण बन जाता है, पता तक नहीं चलता। डर से पसीना ही नहीं छूटता, इससे ऐसी उत्तेजना भी होती है, जो हमें हमलावर बना देती है। दबंगई कायर लोगों में यह एहसास पैदा करती है कि जब तक साथ में और लोग हैं, सत्ता का साथ है, कुछ भी कर लो, धौंस जमाओ, स्त्रियों और बच्चों के साथ हिंसा करो। कई लोगों को एक सा डर होने लगे तो वह सामूहिक राजनैतिक औजार बन जाता है। इसी का फायदा उठाकर संघ परिवार जैसे गुट सत्ता में आते हैं। मनोविज्ञान में इस बात पर शोध हुआ है। वैज्ञानिकों का मानना है कि सामूहिक गुंडागर्दी के लिए बीमार विचारधारा पर आधारित नेतृत्व, भय में डूबी नुकसानदेह मानसिकता, बड़ी तादाद में लोगों में आहत होने का हसास और बाकी लोगों की सुन्न पड़ गई संवेदनहीन मानसिक दशा कच्चा माल की तरह हैं, जिन्हें सही मौकों पर घुला-मिला कर संकीर्ण सोेच में ग्रस्त नेतृत्व सत्ता हासिल करने के लिए इस्तेमाल करता है।
अपने सामाजिक स्वरूप में एक समूह महज लोगों का हुजूम नहीं होता, बल्कि उसका एक सामूहिक मनोविज्ञान होता है। इसी मनोविज्ञान पर भला या बुरा नेतृत्व भले-बुरे उद्देश्यों के लिए प्रयोग करता है। जैसे एक व्यक्ति में भगवान और शैतान दोनों को जगाया जा सकता है, वैसे ही समुदायों में भी नैतिक संकट के बीज बोए जा सकते हैं और वक्त आने पर उसके ज़हरीले फल तोड़े जा सकते हैं। माना जाता है कि समूह में बड़े संकट अपेक्षा से ज्यादा तेज़ी से आते हैं; दो और दो मिलकर चार नहीं, चार से ज्यादा का प्रभाव दिखलाते हैं। ऐसी स्थिति में शैतान को खुद ज्यादा कोशिश नहीं करनी पड़ती, कायर लोगों क झुंड उसे नेता न कर तबाही करने लगत है। इतिहास में ऐसा होता रहा है, कभी मुल्कों में, कभी धर्म-संप्रदायों में, तो कभी मुक्तिकामी संगठनों में भी।
सोचने पर लगता है कि आज भी हम अंधकार युग में जी रहे हैं। ऐसे तो इंसान का जीना दूभर हो जाएगा। अगर हम आप कुछ न करें तो हालात वैसे ही हो जाएँगे, जैसे सीरिया, अफग़ानिस्तान जैसे मुल्कों में हैं। हम सचमुच एक खतरनाक दौर से गुजर रहे हैं और विड़ंबना यह है कि बहुत सारे लोग यह समझते हैं कि यह कोई खास बात नहीं है। जो भी अपने दायरे में सुरक्षित महसूस करता है, उसे लग सकता है कि पॉलिटिक्स तो चलती रहती है; आखिर ऐसा कब था कि कहीं कोई हिंसा न होती हो। इस खतरे को कि ये लोग कभी भी जंग छेड़ सकते हैं, हल्का नहीं लेना चाहिए। अब अगर जंग छिड़े तो कोई नहीं जानता कि वहाँ कहाँ और कब रुकेगी। मोदी सरकार ने पहले ही सुरक्षा के क्षेत्र को विदेशी निवेश के लिए पूरी तरह खोल रखा है। ऐसे निहित स्वार्थों की कमी नहीं जो अपनी मुनाफाखोरी के लिए जंगों पर निर्भर हैं। अमेरिका जैसे मुल्कों के वार्षिक निर्यात का बड़ा हिस्सा असलाह की बिक्री है। अमेरिका में युद्धविरोधी आंदोलन सक्रिय तो है पर इस वक्त वहाँ जगखोरों की सरकार है। हमारे भीतरी खतरे भी कम नहीं। संघ की पूरी राजनीति नफ़रत फैला कर सत्ता हासिल करने की है। आज तक यह सही पता नहीं चला है कि गोधरा कांड में सचमुच क्या हुआ था। इसमें कोई अचरज नहीं होगा अगर कभी यह सिद्ध हो जाए कि वह जान बूझ कर नफ़रत फैलाने के लिए पूर्व-नियोजित ढंग से करवाई वारदात थी। अतीत में संघ के साथ रह चुके कई लोगों ने बयान दिए हैं कि कैसे वे जानबूझकर दंगा फैलाने के लिए खुराफातें किया करते थे। भीष्म साहनी की रचनाओं पर आधारित 'तमस' फिल्म का शुरूआती सीन, जिसमें ओम पुरी ने अभिनय किया था, कौन भूल सकता है। सचेत नागरिकों को हर पल जगे रहना होगा कि कभी भी कुछ हो सकता है। अब तो इन लोगों ने खरबों रुपए भी लूट रखे हैं। ये किसी को भी खरीद सकते हैं, कुछ भी करवा सकते हैं। सिर्फ इतना नहीं कि विधान सभा में महज दो सदस्य होते हुए भी सरकार बना ले सकते हैं, इससे कहीं आगे हिंसा के सभी तरीके भी अपना सकते हैं।
हमारे पास हालात से जूझने के अलावा कोई विकल्प नहीं हैं। एक ओर निश्चित विनाश है, भीतर बाहर हर तरह की जंग लड़ाई का खतरा है, दूसरी ओर इकट्ठे आवाज़ उठाने का, बेहतर भविष्य के सपने के लिए पूरी शिद्दत से जुट जाने का विकल्प है। एक ओर जंगखोरी और लोगों को फिरकापरस्ती में उलझा कर मुल्क की संप्रभुता गिरवी रखी जा रही है, दूसरी ओर हमारे लोगों के लिए बेहतर तालीम और सेहत के मुद्दे हैं। आज हिंदुस्तान जंगी असलाह की आमद पर खर्च करने की सूची में सबसे ऊपर है। फौजी खित्ते में मुल्क की संपदा को लगाने में हम पाँचवें नंबर पर हैं। साथ ही यह विड़ंबना कि मानव विकास आँकड़े में हम 133 वें नंबर पर हैं। हमें लोगों को यह समझाना होगा कि हमारी लड़ाई पाकिस्तान या चीन के लोगों से नहीं है, वहाँ की हुकूमतों से है और साथ ही मध्य-युगीन मानसिकता वाली हमार अपने मुल्क की हुकूमत से है। सरहद पर मरने वाला सिपाही मरता है तो वह किसी मुल्क का भी हो, उसके बच्चे अनाथ हो जाते हैं। हाकिम नहीं मरते, साधारण सिपाही मरते हैं और उनको शहीद कह कर या उनके परिवार को राहत का पैसा देकर मरे हुए को वापस नहीं लाया जा सकता है। पर हाकिमों की जमात के पास ये सब सोचने की गुंजाइश नहीं है। हमें सोचना होगा कि जंग किसी के भी भले के लिए नहीं है। आज धरती विनाश के कगार पर खड़ी है और संकीर्ण राष्ट्रवादी नज़रिए से हटकर आलमी सोच के साथ हमें तमाम विनाशकारी ताकतों के खिलाफ लड़ना है। अगर सरमाएदारों के बीच मुनाफाखोरी के लिए आलमी समझौते हो सकते हैं तो आम लोगों के बेहतर तालीम और सेहत की सुविधाओं के साथ शांतिपूर्ण ज़िंदगी जीने के लिए समझौते भी हो सकते हैं।
आज इतना हो चुका है कि जब सत्तासीन दल का प्रमुख हमारी देशभक्ति पर सवाल उठाता है, तो लोग समझ ही जाते हैं कि एक गद्दार चीख रहा है और असल देशभक्तों के खिलाफ लोगों को भड़का रहा है। और यह बात सच नहीं है कि कांग्रेस, भाजपा या दीगर क्षेत्रीय दलों के अलावा कोई लोकतांत्रिक विकल्प नहीं है। देश भर में करोड़ों समर्पित लोग बेहतरी के लिए काम कर रहे हैं। इनमें साम्यवादी, समाजवादी, गाँधीवादी, हर तरह के लोग हैं। अव्वल तो इन समर्पित कार्यकर्ताओं को शासन की बागडोर थमानी चाहिए। अगर किसी को शंका भी हो तो किसी भी संसदीय क्षेत्र में बीस प्रार्थियों में से जो सबसे बेहतर है, जो पैसों से नहीं, बल्कि अपनी काबिलियत, कुव्वत और समर्पण की भावना से चुनाव लड़ रहा है, उसकी पहचान करें और उसी को प्रतिनिधि चुनें। जाहिर है कि फिरकापरस्ती और झूठ की बौछार से अपनी पहचान बनाने वाले दलों के प्रार्थी तो ये कतई नहीं होंगे। संघी झूठ प्रचार में यह बात आती रहती है कि भाजपा का विरोध मतलब कांग्रेस का समर्थन है। जाहिर है अब जब मोदी का तिलिस्म रहा नहीं, इस प्रचार का कांग्रेस को बहुत फायदा हुआ है, पर यह बात बिल्कुल बकवास है। संघ की नफ़रत आधारित राजनीति का विरोध करने वाले अधिकतर लोग कांग्रेस की नवउदारवादी आर्थिक नीतियों और फिरकापरस्ती का हमेशा ही विरोध करते रहते हैं। वे लोग भी जो संघ के बढ़ते आतंक से घबराकर कांग्रेस के समर्थन में खड़े हो रहे हैं, दरअस्ल सभी कांग्रेस समर्थक नहीं हैं।
2019 के चुनावों में संघ के लोग जिस हद तक हो सके देश को तबाही की ओर धकेलेंगे। लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति जागरुक हर शख्स के लिए लाजिम है कि हम ऐसा न होने दें। इसी के लिए एकजुट होना है और संघर्ष करते रहना है।