Saturday, May 30, 2009

रोशनी

कभी कभी तारों भरा आस्माँ देख
थक जाता हूँ।

इत्ती बड़ी दुनिया
छोटा मैं

फिर खयाल आता है
तारे हैं
क्योंकि वे टिमटिमाते हैं

रोशनी देख सकने की ताकत का अहसास
मुझे एक तारा बनने को कहता है

तब आस्माँ बहुत सुंदर लगता है।
(1988: अप्रकाशित)

3 comments:

प्रदीप कांत said...

रोशनी देख सकने की ताकत का अहसास
मुझे एक तारा बनने को कहता है

तब आस्माँ बहुत सुंदर लगता है।

आज सबसे बड़ी आवश्यकता रोशनी देख सकने की ताकत की है.

GopalJoshi said...

padh kar kuch yaad aa gaya..
"jugnuon ko saath le kar raat raushan keejiye, raasta suraj ka dekha to sahar ho jayegi !!"

aur aap ki liye

Chal Ae nazeer kuch ess tarah se kaarwan ke saath, Jab tu na chal sake too tere daastan chale.....

Keep writing .. Best Wishes

संदीप शर्मा said...

bahut khoobsurat lines....