Sunday, September 06, 2015

घर छोड़ते हैं जब घर रहने नहीं देता

हलद्वानी के अशोक पांडे की दीवार पर यह कविता दिखी (साझा की गई पोस्ट्स की शृंखला में), तो मैंने तुरत फुरत अनुवाद कर डाला। हाल में हुई घटनाओं से जुड़ी है।

"HOME," by Somali poet Warsan Shire:
no one leaves home unless
home is the mouth of a shark
you only run for the border
when you see the whole city running as well

your neighbours running faster than you
breath bloody in their throats
the boy you went to school with
who kissed you dizzy behind the old tin factory
is holding a gun bigger than his body
you only leave home
when home won't let you stay.

no one leaves home unless home chases you
fire under feet
hot blood in your belly
it's not something you ever thought of doing
until the blade burnt threats into
your neck
and even then you carried the anthem under
your breath
only tearing up your passport in an airport toilets
sobbing as each mouthful of paper
made it clear that you wouldn't be going back.

you have to understand,
that no one puts their children in a boat
unless the water is safer than the land
no one burns their palms
under trains
beneath carriages
no one spends days and nights in the stomach of a truck
feeding on newspaper unless the miles travelled
means something more than journey.
no one crawls under fences
no one wants to be beaten
pitied

no one chooses refugee camps
or strip searches where your
body is left aching
or prison,
because prison is safer
than a city of fire
and one prison guard
in the night
is better than a truckload
of men who look like your father
no one could take it
no one could stomach it
no one skin would be tough enough

the
go home blacks
refugees
dirty immigrants
asylum seekers
sucking our country dry
niggers with their hands out
they smell strange
savage
messed up their country and now they want
to mess ours up
how do the words
the dirty looks
roll off your backs
maybe because the blow is softer
than a limb torn off

or the words are more tender
than fourteen men between
your legs
or the insults are easier
to swallow
than rubble
than bone
than your child body
in pieces.
i want to go home,
but home is the mouth of a shark
home is the barrel of the gun
and no one would leave home
unless home chased you to the shore
unless home told you
to quicken your legs
leave your clothes behind
crawl through the desert
wade through the oceans
drown
save
be hunger
beg
forget pride
your survival is more important

no one leaves home until home is a sweaty voice in your ear
saying-
leave,
run away from me now
i dont know what i've become
but i know that anywhere
is safer than here.


'घर'

- सोमाली कवि वारसान शायर की कविता
घर दानव बन खाने को नहीं आता
तो कोई घर छोड़कर नहीं जाता
जब कोई सारे शहर को भागते देखता है
तभी वह सरहद की ओर दौड़ता है


तुम्हारे पड़ोसी तुमसे भी तेज दौड़ते हैं
उनके गले में साँसों में खून बहता है
स्कूल साथ गया वह छोरा
जिसने पुरानी टिन फैक्ट्री के पिछवाड़े
चूमकर तुम्हें था बेहोश कर छोड़ा
आज अपने कद से भी बड़ी बंदूक थामे हुए है
घर तभी छोड़ते हैं
जब घर तुम्हें रहने नहीं देता


घर कौन छोड़ता है
जब तक पैरों तले आग न हो
पेट में गर्म खूं न खलबलाए
ऐसा करने की कहाँ सोचते हैं
जब तक तलवार की धार
से न पड़े तुम्हारी गर्दन पर आतंक की मार
और अपनी साँसों में भी राष्ट्रगीत गाना पड़ता हो
और तुम हवाई अड्डों के टॉएलेट्स में
पासपोर्ट के पन्ने फाड़ते हो
हर कागज़ को फाड़ते यह जानकर रोते हो
कि अब तुम कभी वापस नहीं जा सकते।


इस बात को समझो
कि कोई अपने बच्चों को नावों में नहीं बैठाता
अगर पानी में बचने की उम्मीद ज़मीं पर से ज्यादा न हो
अपनी हथेलियों को कोई रेलगाड़ियों के नीचे
डिब्बों के नीचे नहीं जलाता
अगर मीलों का पार होना सफर से आगे कुछ और न हो
तो कोई ट्रक के पेट में अखबार के कागज़ खाकर दिन रात नहीं गँवाए
कोई बाड़ों के नीचे नहीं है रेंगता
कोई मार खाना या दया की भीख नहीं चाहता


कोई शौक से शरणार्थी शिविर नहीं जाता
या कपड़े उतार जाँच नहीं करवाता
जिससे बदन है दुखता रहता
कोई कैद चाहता नहीं है
ऐसा होता है क्योंकि कैद
आग में जलते शहर से बेहतर है
क्योंकि तुम्हारे पिता जैसे दिखते ट्रक में ठुँसे मर्दों से
रात में कैदखाने का एक संतरी बेहतर है
किसी से नहीं सहा जाता
कोई नहीं झेल पाता
किसी की चमड़ी इस काबिल नहीं होती


कालो वापस जाओ
रिफ्यूजी
गंदे आप्रवासी
शरणार्थी
हमारे देश को चूसते सोख रहे
हाथ फैलाते निगर
उनसे अजीब गंध आती है
जंगली
अपना मुल्क तबाह कर आए
अब हमारा मुल्क तबाह करना चाहते हैं
ऐसे लफ्ज़
नफ़रत भरी निगाहें
पीठ पर से रेंग-रेंग उतर जाते हैं
शायद इसलिए कि काट कर अलग की गई बाँह या टाँग
के बनिस्बत यह चोट मुलायम है


ा कि तुम्हारी जाँघों पर चढ़े चौदह मर्दों से
ये लफ्ज़ ज्यादा नर्म हैं
या हड्डियाँ और मलबे देखने से
अपने बच्चे का बदन टुकड़ों में कटे देखने से
गालियाँ सहना ज्यादा बेहतर है
मैं घर लौटना चाहती हूँ
पर घर दानव का खुला मुँह है
घर बंदूक की नाल है
और कोई घर छोड़ कर नहीं जाता
अगर घर तुम्हें समंदर के किनारों तक दौड़ाए नहीं
अगर घर तुमसे पैर तेजी से बढ़ाने को
कपड़े पीछे छोड़ जाने को
मरुथलों में से रेंग निकलने को
डूबने को
बचने को
भूख बन जाने को
भीख माँगने को
अपना गरूर भूल जाने को न कहे
यह न कहे कि तुम्हार ज़िंदा रहना ज्यदा ज़रूरी है


कोई घर नहीं छोड़ता
जब तक कि घर तुम्हारे कानों में पसीने से लदी आवाज़ बन
यह नहीं कहता - जा
मुझसे दूर चली जाओ
मैं नहीं जानता कि मैं क्या बन चुका हूँ
पर मैं जानता हूँ कि
हर कहीं और तुम यहाँ से ज्यादा सुरक्षित हो

1 comment:

Dil said...

लाल्टू जी! क्या इसे अपने ब्लॉग पर साझा कर सकता हूँ!