Friday, August 27, 2010

दर्द को झेल सको तो आ जाओ और छेड़ने के बाद मम्मी मम्मी क्यों

प्रिय गौतम, यह बढ़िया कि तुमने जवाब दे दिया तो मुझे फिर एक चिट्ठा लिखने की हिम्मत मिल गयी, वरना इन दिनों मैं ऐसा थका हुआ हूँ कि लिखा नहीं जाता। मेरे भाई, तुम इतने गुस्से में हो कि मुझमें तुम्हारे प्रति प्यार बढ़ता जाता है। इतना गुस्सा कि बोल्ड font में जताना कि मुझे राक्षस कहा - ओये होए।

पर प्यारे भाई, एक बार ठंडे दिमाग से मेरा लिखा पढ़ लिया होता। मैं फिर एक बार लिख रहा हूँ - हर इंसान में दानव बनने की संभावना होती है - सेनाओं का वजूद इसी संभावना पर टिका है।

मेरे दोस्त, 'हर इंसान' का खिताब क्या सिर्फ सैनिकों को मिला है?
गौर करो कि मैंने यह कहीं नहीं कहा कि हर व्यक्ति हर वक़्त दानव होता है। एक व्यक्ति एक ही साथ सैनिक भी हो सकता है और भाई बन्धु भी। दानव वह होता है 'जब तनाव तीव्र हो'
मैंने यह भी लिखा कि अपने सैनिक को कविता पाठक से अलग करो।
मैंने यह भी लिखा है कि 'अब तक सेनाओं का उपयोग शासकों ने इंसान का नुक्सान करने के लिए ही किया है'।

सम्प्रेषण एक जटिल प्रक्रिया है। हम सोचते हैं कि हमने बात कह दी, वह सही सही ठिकाने पर पहुँच गयी। ऐसा होता नहीं है, स्पष्ट है कि हमारे तुम्हारे बीच ऐसा हुआ नहीं है।

वैसे दोस्त मैंने गौर किया है कि गाली गलौज 'कथित' पर रुका नहीं। बहरहाल मैं फिर भी इसे प्यार की एक वजह मान कर चल रहा हूँ।

और यह बढ़िया कि मेरी कविता की मार मुझी पर ... कश्मीर में हो न, इसलिए लगता होगा कि लू तो है ही नहीं, कैद का वैसे भी कोई सवाल ही नहीं, भई भारतीय सेना के मेजर हो। (यह गाली मैंने पिछले पोस्ट में नहीं दी थी, उसके पहले तो भाई 'कथित' कहकर तुमने मुझे छेड़ा तो छेड़ने के बाद मम्मी मम्मी क्यों?)

हाँ, मुझे अपनी कैद का अहसास है, अच्छा लगता है कि तुम्हें लगता है कि तुम मुक्त हो।

तो दोस्त हमारी फौज में भर्ती चालू है, दर्दनाक ज़रूर है यह जानना कि इंसान सिर्फ इंसान होता है वह हिन्दुस्तानी पाकिस्तानी किसी और की गलती से बना है।

जो कुछ बचपन से सुनते आये हैं, जो विचार आजतक हमारे सवालों के दायरे में नहीं आये, उन पर अचानक एक दिन सवाल खड़े करना सचमुच दर्दनाक होता है. इस दर्द को झेल सको तो आ जाओ, रैंक का तो पता नहीं इधर तो सभी सिपाही हैं।

और चूंकि हम किसी भी इंसान को पहले इंसान मानते हैं, इसलिए वे भी जो कभी कभार दानव की भूमिका अपनाने को मजबूर हैं, उन्हें भी न्योता है, हमारी फौज में भर्ती चालू है।

मैं अपने प्रिय कवि Walt Whitman की पंक्तियाँ लिख कर बात ख़त्म करता हूँ:
I CELEBRATE myself, and sing myself,
And what I assume you shall assume,
For every atom belonging to me as good belongs to you...

I am the poet of the Body and I am the poet of the Soul,
The pleasures of heaven are with me and the pains of hell are with
me,
The first I graft and increase upon myself, the latter I translate
into new tongue. ...
Have you outstript the rest? are you the President?
It is a trifle, they will more than arrive there every one, and
still pass on.
I am he that walks with the tender and growing night,
I call to the earth and sea half-held by the night।
बाद की लाइनें इस प्रसंग की नहीं हैं - हो भी सकती हैं
Press close bare-bosom'd night - press close magnetic nourishing
night!
Night of south winds - night of the large few stars!
Still nodding night - mad naked summer night.
Smile O voluptuous cool-breath'd earth!
Earth of the slumbering and liquid trees!
Earth of departed sunset - earth of the mountains misty-topt!
Earth of the vitreous pour of the full moon just tinged with blue!
Earth of shine and dark mottling the tide of the river!
Earth of the limpid gray of clouds brighter and clearer for my
sake!
Far-swooping elbow'd earth - rich apple-blossom'd earth!
Smile, for your lover comes.
Prodigal, you have given me love - therefore I to you give love!
O unspeakable passionate love.
हंस में तुम्हारी कहानी कभी पढ़ी है पर याद नहीं है, पाखी मेरे पास आती नहीं है। ढूँढ कर पढूंगा। मैं मानता हूँ कि एक दिन तुम हमारे साथ खड़े होगे।

10 comments:

गौतम राजरिशी said...

मेरी टिप्पणी तो रहने देते सर! इतनी ईमानदारी की अपेक्षा तो कर ही सकता हूं अपने प्रिय कवि से...

गौतम राजरिशी said...

मुझे मेल करेंगे प्लीज.....अपना मोबाइल नंबर दें तो मेहरबानी होगी।

लाल्टू said...

Dear Gautam,
There is something wrong. I typed this first in Hindi and posted, but I got a 'sorry, cant process your request message'. I did not remove your comment. I normally read comments on GMAIL(laltu10@gmail...) and rarely check here. It upsets me that you have questioned my integrity - please take it up with Google administrators why your comment was removed. I wish I had time to pursue this - unfortunately I do not. I have pasted your comment here, I hope it goes through this time.




नमन है सर,

ये तो मेरे लिये इतराने वाली बात हो गयी कि मेरे प्रिय कवि ने मुझे संबोधित कर पूरी की पूरी एक पोस्ट लिख डाली। आपने लिखा कि "तुम्हारी पहली टिप्पणी से वैसे मुझे कोई चोट पहुंचनी नहीं चाहिए क्योंकि हिन्दी रचना संसार में गाली गलौज आम बात है"...लेकिन मैंने तो "संवेदनशील" शब्द के आगे महज एक "कथित" विशेषण जोड़ा था, गाली कहीं से नहीं दी थी और तिस पर भी आपको बुरा लगा उसके लिये अलग से माफी भी माँग ली। आपने तो मेरे तमाम भाई-बंधुओं को दानव और राक्षस की संग्या दे डाली, तनिक तिलमिलाने का हक तो आपके इस अदने-से पाठक का भी बनता है।और बाद के पोस्ट में मेरे "मेजर" रैंक को जिस तरह से विशेषण बना कर प्र्स्तुत कर रहे हैं आप, वो भी स्पष्ट है। हँसी आ गयी अपने प्रिय कवि की इस हरकत पर।

आप कहते हैं कि आप तो मनुष्य-मनुष्य के बीच हिंसा के कट्टर विरोधी हैं और जाहिर है आपकी कविता से भी यही जाहिर होता है...किंतु पहली पोस्ट जिस पर मैंने टिप्पणी की थी और जो आपको गाली सम लगी, उसमें आपका कथन तो मनुष्य-विरोधी प्रतित होता है। नब्बे प्रतिशत सैनिक जब सेना में भर्ती होता है तो वो किसी देशभक्ति के जुनून में नहीं, बल्कि रोजगार और पेट की खातिर शामिल होता है..ठीक उसी तरह जैसे कोई कलर्क या फिर म्युनिसिपैलिटी का कर्मचारी होता है। लेकिन आपने उन तमाम सैनिकों को भी राक्षस की श्रेणी में गिन लिया। मेरी टिप्पणी की वजह भी यही थी कि एक जनकवि इतना संकीर्ण कैसे सोच सकता है....

अपने हिस्से का सच मैं भी यत्र-तत्र बताने की जोहमत करते रहता हूँ सर। अब मेरी लेखनी आपकी तरह सशक्त तो है नहीं और न ही मेरे पास आप जैसा बिम्बों का प्रचूर भंडार है...कभी समय निकाल कर मेरे अदने से ब्लौग पर नजर डालियेगा। कुछ ग़ज़लें और इक्का-दुक्का कहानियाँ हंस, पाखी आदि पत्रिकाओं में छप जाती हैं....हाशिये पर हूं, फिर भी कोशिश करता हूं कि इन दानवों और राक्षसों के पक्ष का सच भी इन ग़ज़लों और कहानियों के माध्यम से बाहर आये। संभव हो तो पाखी के जून अंक में छपी मेरी तुच्छ-सी कहानी पर नजर डालियेगा।

कविता का समर्पित पाठक हूँ और इस बात पे घमंड भी करता हूँ। आप जैसी कविता लिखने का सऊर भले ही न हो मुझे, लेकिन कविता पढ़ने की अच्छी तहजीब है। विश्व पुस्तक मेले में जब आप अपनी "लोग ही चुनेंगे रंग" की प्रतियां यूं ही वितरित कर रहे थे अपने मित्रों और आलोचकों में, जिनमें से कई लोगों ने उसे सरसरी तौर पर देखा भी नहीं होगा अब तक(और ये सच आप भी जानते हैं)...उसी मेले के बाद आपका ये पाठक रिक्शे पर शाहदरा की गलियां छान रहा था शिल्पायन के गुमशुदा दुकान की तलाश में और वहाँ पहुंचने पर ललित जी बताते हैं कि किताब तो है ही नहीं, फैक्टरी से जो किताब मिली वो लाल्टू जी ने बाँटने के लिये उठा ली...शेष प्रतियां एक महीने बाद मिलेगी। मेरी झुंझलाहट का अंदाजा लगा सकते हैं आप। फिर उन्हें एडवांस देकर आया और उनकी कृपा से मेरी प्रति डाक द्वार कश्मीर के इस सुदूर पहाड़ी पर पहुंची। ...तो आपकी कविता इस तरह भी पढ़ी जाती है सर। कई दिनों से "लोग ही चुनेंगे रंग" की समीक्षा ड्राफ्ट में लिख कर रखी हुई जो जल्द ही ब्लौग पर डालने वाला हूँ।

कम-से-कम कविता कैसे पढ़ी जाती वो तो मुझे अपने कवि से नहीं सीखना पड़ेगा। अपने दानवी और राक्षसी क्रिया-कलापों से बचे समय में खुद के लिये कविता से मिलना अलग से रखता हूँ।

आपका निमंत्रण सर-आँखों पर, लेकिन हैरान हूँ कि एक राक्षसी-प्रवृति वाले को आप अपनी फौज में शामिल करना चाहेंगे। क्या महज इसलिये कि वो आपकी कविता पढ़ता है?

अंत में, आपकी ही एक कविता की चंद पंतियाँ याद आ रही हैं। कुछ यूं थी ना:-
"बाहर लू चलने को है
जो कमरे में बंद हैं,
किस्मत उनकी...
कैद में ही सुकून...."

लाल्टू said...

गौतम राजरिशी अध्याय का अंत.
मैं आम तौर पर टिप्पणियाँ जीमेल पर पढ़्ता हूँ.ध्यान नहीं देता कि ब्लाग पर वह हैं या नहीं. 'इतनी ईमानदारी की अपेक्षा तो कर सकता हूँ'. पढ़्कर मैं आस्मान से गिरा! मेल से उसकी टिप्पणी काट कर पेस्ट करने की कोशिश की. एरर मेसेज आया. दूसरी बार अपना वक्तव्य अंग्रेज़ी में लिखा- हो सकता है हिन्दी से समस्या हो रही हो. इस बार मेसेज आया- टेक्स्ट बहुत बड़ा है. फिर कोशिश कर रहा था कि देखा कमेंट पेस्ट हो चुका है. चूँकि उसने मेरी ईमानदारी पर शक किया है, इसके बाद मैं उसे जवाब नहीं दूँगा.
***********************
ऊपर वक्तव्य के लिखने के बाद एक मित्र से बात कर रहा था तो उसने पड़ताल करने में मदद की। गौतम ने अपने याहू मेल ID से कमेन्ट पेस्ट किया था और मुझे वह blogger.bounces.google.com से पहुंचा था। यानी कि उसकी टिप्पणी कभी पोस्ट हुई ही नहीं थी. मैंने जब उसका comment पोस्ट किया तो उसके बोल्ड अक्षरों को बोल्ड करना भूल गया। मेरी 'ईमानदारी' पर उस की बात पढ़कर गुस्सा तो बहुत आया। ऐसा नहीं कि वह नासमझ है। अगर नादाँ होता तो मेरी कविता का इस्तेमाल मेरी पिटाई करने के लिए न करता। जानबूझ कर मुझे गलत पढ़ रहा है और प्रिय कवि कहकर मुझे बेईमान भी कह रहा है। इसके बाद कहने को कुछ बचता नहीं है। अगर उसमें जरा भी भलमनसाहत हो तो उसे चिट्ठा समुदाय से माफी माँगनी चाहिए.

गौतम राजरिशी said...

जिस तरह आपकी बातों से मैं आहत हुआ, उसी तरह आप भी मेरी बातों से आहत हुये हैं और विश्वास कीजिये हृदय से क्षोभ है मुझे इस बात का कि मेरी वजह से आपको चोट पहुँची....

चिट्ठा-समुदाय में जो लोग मुझे जानते हैं कम-से-कम मेरी शालिनता और मेरे आचरण पर तो ऊँगली नहीं ही उठायेंगे। फिर भी यहाँ मैं सबसे माफी माँगता हूं और विशेष कर लाल्टू जी से....


"मेजर" रैंक को अपने पोस्ट में अलग ढ़ंग से प्रस्तुत करने के लिये या फिर तमाम सैन्य-अधिकारियों द्वारा अपने मातहतों को अश्लील गालियों से सुशोभित करने वाले लाल्टू जी के वक्तव्य पर मुझे उनकी तरफ से माफी की कोई अपेक्षा नहीं है, क्योंकि वो मेरे लिये श्रद्धेय हैं और मुझसे ज्यादा दुनिया देखी हैं उन्होंने तो जाहिर है कि सच ही बोल रहे होंगे।

...और यकीन मानिये लाल्टू सर, आप मेरे प्रिय कवियों की फ़ेहरिश्त में शामिल थे और रहेंगे।

डॉ .अनुराग said...

लगातार चौथी पोस्ट...??.अपने तजुरबो ओर उससे उपजी सोच से आपके भीतर एक विचार बना ..उसे आपने लिखा ....अपने तजुर्बे ओर अपनी सोच से दूसरे व्यक्ति ने भी उस विचार के साथ असहमति जतायी..जाहिर है एक सामान्य प्रक्रिया है ...आप एक सिरे से किसी परिद्रश्य को देखते है दूसरा व्यक्ति दूसरे सिरे से ....जाहिर है कुछ ना इत्तेफाकी तो बनेगी .. मुआफ कीजिये .अपने साथ असहमत हुए विचारो से लगातार असहमत होने की ये जिद किसी रचनात्मक दिशा में नहीं जा रही है ..

लाल्टू said...

प्रिय अनुराग,
वैचारिक मतभेद से किसको शिकायत?
पर आपका comment post ही न हुआ हो और आप इल्ज़ाम लगाएँ कि बेईमानी से हटा दिया गया -
यह वैचारिक बात नहीं है.

manu said...

:)

:)

manu said...

:)

PD said...

उन्होंने आरोप लगाया कमेन्ट डिलीट होने का.. आपने अपनी बात रखी जिसे मैं टेक्निकली सही भी मानता हूँ.. आब आगे कि बात करूं क्या? यहाँ अनुराग जी कुछ अन्य बातो की और आपका ध्यान खींचना चाह रहे थे, जिसे कि आपने खिंच कर वापस उसी कमेन्ट डिलीट होने तक पहुंचा कर उनकी बात हवा में उड़ा दिया..

खैर, मैं क्या कहूँ.. वैसे भी सुना है कि जब बड़े बात करते हों तो छोटे को बीच में नहीं बोलना चाहिए.. मैं तो वैसे भी उम्र में चाहे समझ में या अनुभव में, आप तीनो से ही छोटा हूँ...