Saturday, November 12, 2005

ऐब हो तो कितना

सुबह तेज कदमों से इंजीनियरिंग कालेज और स्टेडियम के बीच से डिपार्टमेंट की ओर चला आ रहा था। दो लड़के इंजीनियरिंग कालेज की ओर से मेरे सामने निकले। उनके वार्त्तालाप का अंशः एक- यार, जालंधर देखा है, कितना बदल गया है। बहुत बदला है हाल में। दूसरा- सब एन आर आई की वजह से है। तुझे पता है जालंधर में कितने एन आर आई हैं। अकेले जालंधर में पंद्रह हजार एन आर आई हैं भैनचोद, तू देख ले भैनचोद।

कहते हैं पौने तीन हजार साल पहले सिकंदर ने सेल्युकस से कहा था, सच सेल्युकस! कैसा विचित्र है यह देश! शायद सिकंदर और सेल्युकस के सामने ऐसे ही दो युवक ऐसा ही कोई वार्त्तालाप करते हुए चल रहे होंगे।

पंजाबी इतनी मीठी जुबान है, पर हर दूसरे वाक्य में भैनचोद आने पर एक अच्छी भली मीठी भाषा भी गंदी लगने लगती है। ऐसा नहीं कि हमने कभी गालियाँ नहीं दीं, न ही यह कि गालियाँ सिर्फ पंजाबी में ही दी जाती हैं। पर पढ़े-लिखे लोग बिना आगे-पीछे देखे गालियों का ऐसा इस्तेमाल करें, यह उत्तर भारत में ही ज्यादा दिखता है। सुना है कि दक्षिण में गुलबर्ग इलाके में भी खूब गाली-गलौज चलती है। तमिल में भी जबर्दस्त गालियों की संस्कृति है। कोलकाता में फुटबाल का खेल देखते हुए बड़ी क्रीएटिव किस्म की गालियाँ भी बचपन में सुनी थीं। आखिर एक ऐसे मुल्क में जहाँ हम यह कहते थकते नहीं कि हम औरतों को देवियों का स्थान देते हैं, हमारी जुबान में जाने अंजाने माँ बहनों के लिए ऐसे हिंसक शब्द इतनी बार क्यों आते हैं? मेरे दिमाग में कोई भी महिला देवी नहीं होती। अधिकतर वयस्क महिलाओं को उनके जैविक और लैंगिक स्वरुप में ही मैं देखता हूँ। पर हर दूसरे वाक्य में भैनचोद कोशिश करके भी मैं नहीं कह सकता। तो क्या यह इसलिए है कि मुझे ऐसी गालियों का अर्थ पता है, पर उन युवकों के दिमाग मुझसे ज्यादा साफ और पाक हैं; वे इसमें कोई हिंसक यौनेच्छा न तो देखते हैं, न सोचते हैं। संभव है कि यही सच है, फिर भी कितना अच्छा हो कि ऐसे शब्द भाषा में कम से कम प्रयुक्त हों।

प्रसिद्ध लोक नाटककार गुरशरण भ्रा (भाई) जी ने एकबार आंदोलन चलाया था कि ऐसी गालियाँ इस्तेमाल करने के खिलाफ कानून बने और उस कानून में अलग-अलग श्रेणी के लोगों के लिए अलग-अलग किस्म की सजा का प्रावधान हो। अगर कोई पुलिस वाले को ऐसी गाली बोलते पाया जाए तो उसको सबसे अधिक सजा दी जाए, गैर-पुलिस सरकारी अधिकारियों को उससे कम और साधारण नागरिकों को सबसे कम। तात्पर्य यह था कि माँ बहन को जोड़ कर बनाई गई गालियाँ निशचित रुप से हिंसक भावनाएं प्रकट करने के लिए इस्तेमाल होती हैं और सरकारी पदों पर नियुक्त लोग जब हिंसक भावनाएं प्रकट करते हैं तो वे अपने पदों का गलत उपयोग भी कर रहे होते हैं, इसलिए उनको अधिक सज़ा मिलनी चाहिए।

१९९० में शमशीर नामक एक संस्था, जो खुद को नारी हितों में काम कर रही बतलाती थी, ने शिमला, चंडीगढ़ जैसे शहरों में 'मेरा भारत महान' नामक एक नाटक खेला। इसमें उनके अनुसार 'मध्य वर्ग की सेंसिबिलिटी को झकझोर देने के लिए' महिला चरित्रों ने भाईचोद जैसी गालियों का प्रयोग किया। जब मैंने उनसे कहा कि न केवल वे अपने उद्देश्य में पूरी तरह से असफल हुए हैं, बल्कि जीन्स पहनी शहरी लड़कियों से ऐसी गालियाँ कहलाके उन्होंने गाँवों और छोटे शहर से आए धनी परिवारों के लड़कों को घटिया यौन-सुख पाने का एक मौका दिया तो वे बड़े नाराज़ हुए। मुझे आज भी यही लगता है कि पुरुषों के घटियापन को महिलाओं के घटियापन से दूर नहीं किया जा सकता।

इसी प्रसंग में याद आता है हमारी यूनीवर्सिटी के एक डीन थे, जो कभी नोबेल विजेता खगोल-भौतिकी के प्रसिद्ध वैज्ञानिक चंद्रशेखर के विद्यार्थी रह चुके थे। औपचारिक सभाओं में भी ये सज्जन माँ बहन की गालियाँ देते थे। चमन नाहल ने अपने उपन्यास 'आज़ादी' में पंजाबी भाषा का गुणगान करते हुए एक चरित्र से कहलवाया है - गंगा का पानी भैनचोद इतना पवित्र है....

कभी कभी ऐसी विकृतियाँ ही जीवन को अर्थ देती हैं। अगर सचमुच हममें कोई ऐब न हो तो जीवन जीने लायक न होगा। पर यह भी हमें ही सोचना है कि ऐब हो तो कितना।

5 comments:

Debashish said...

Your feed http://laltu.blogspot.com/atom.xml is not working right. You may like to edit the problematic posts. If your feed is not fine Chittha Vishwa would not be able to feature your posts on the site.

Best,

मिर्ची सेठ said...

लालटू जी,
आप का चिट्ठा तो पढ़ते रहना पड़ेगा। और कहाँ मिलेंगी टैगोर थेयेटर की बातें। इंजीनियरिंग के लड़कों का गाली गलौच। वैसे मेरे पैक के जीवन में इस मुद्दे पर हम लोगों की छात्रों के रुप में अपने एक प्रोफेसर से झड़प हो गई थी। अपनी पिछली टिप्पणी में मैंने जहाज का पंछी लिखा था इस बारे में आप यहाँ पढ़ सकते हैं। साथ ही आपके चिट्ठे के बारे में नारद जी को भी बता दिया है। जरा यहाँ देखिए

http://akshargram.com/narad/author/laltu/

मिर्ची सेठ said...

पूरी प्रविष्टि अभी पढ़ी। मेरा मानना है कि किसी भी घटियापन को और घटियापन से दूर नहीं किया जा सकता। साथ ही गौर करने वाली बात है कि गर एक लड़का खराब है तो वह कुछ सात-आठ-दस लड़कियाँ खराब करेगा पर गर लड़की खराब हो गई तो वह पूरे शहर को खराब करने की कुवत रखती हो सकती है।

पंकज

अनूप शुक्ला said...

लाल्टूजी,आपकी बात सच है। गालियों के बारे में मेरा लेख पढ़ें।

http://hindini.com/fursatiya/?p=55

रजनीश मंगला said...

लालटू जी, बहुत अच्छा लिखा है। मैं भी पैक का ही 1993 पास आऊट हूं। ये तो खुशी की बात है कि नारद पर तीन पैकिए इकट्ठे हो गए।