Sunday, February 12, 2017

21. एक नई ज़ुबान गढ़ी जा रही थी

जब चला था
ख़्वाब था मन में -
एक देश बनाऊँगा
हँसते-खेलते फूल-सा
तुम हँसोगे पर सच है कि मैं कविताएँ लिखता था
मानता था कि कविताएँ ही देश बनाएँगी
ख़्वाब था कि माहताब छाएगा देश की रातों पर
दुखी लोग भली नींद सो जाएँगे
सुख के सपने हो जाएँगे

ख़्वाब बदला और
चाहत हुकूमत की आ बैठी दिलो-दिमाग पर
भेड़-बकरों जैसे दिखने लगे देश के लोग
मैं सोचने लगा कि इनकी नियति ही रौंदे-लूटे जाने की है
इस तरह आईने में हर रोज़ देखा खुद को
इंसान से कीट बनते हुए
रेंगते हुए मैंने की अपनी तीर्थयात्रा
और आका को नतमस्तक किया सलाम।

मैंने देशनिकाला दिया खुद को
अपने ख़्वाबों के देश से
या कि देश ही निकल गया था ख़्वाब से
खंडहर मौजूद था या कि ज़मीं जिसे अब मेरे हाथों खंडहर होना था
चीखें थीं चारों ओर और मेरे सिपहसालारों की ललकारें
एक नई ज़ुबान गढ़ी जा रही थी

कि ख़्वाब देखना वतन के साथ गद्दारी है

देश से निकाले गए खुद का यह विलाप
सुनता हूँ खुद ही छिप-छिप कर।

In the beginning
There was the dream
That I will build a Nation -
Happy like a flower
You may be amused but I really used to write poems
I used to believe that poetry will build the Nation
I dreamt that moonlight will pour on the Nation in the nights
And that suffering people will sleep a good night
And they will have happy dreams

And then my dream changed
The desire to rule occupied my mind and heart
And suddenly the people appeared like sheep
And I thought that they are destined to be robbed
That is how I saw myself in the mirror everyday
metamorphosing from a human into an insect
I crawled for pilgrimage to holy places
And I fell on the feet of my Master.

I exiled myself
From the country of my dreams
Or may be the country was no longer there in my dreams
There were ruins or what were to become ruins in my hands
There were screams all around and the thundering voices of my foot-soldiers
They were drumming a new language 

That to dream is an act of treason

I listen secretly to this mourning
Of my exiled self.

No comments: