Saturday, June 23, 2007

सिर्फ फोटू




युवा कवि मोहन राणा के साथ| मोहन बाथ में रहता है और ये तस्वीरें उसने अपने मोबाइल फोन के कैमरे पर लीं|

स्टैचू नाविक जान कैबट है - १४९७ में ब्रिस्टल से चला और उत्तरी अमरीका जा पहुँचा|

पीछे इमारत ब्रिस्टल के कला और संस्कृति के केंद्र आर्नोलफीनी की है| आर्नोलफीनी मध्यकालीन पश्चिमी कला में काफी विवादित नाम है| मेरे हाथ में लिफाफे में मोहन के दो कविता संग्रह हैं, जिनमें एक ताजा 'पत्थर हो जाएगी नदी' है|

4 comments:

masijeevi said...

चलिए आप दिखें तो...

अब कुछ वर्णन/विवरण हो जाए

अफ़लातून said...

नाविक की मूरत अच्छी लगी । मोहनजी की कविताओं पर कुछ लिखिएगा ?

Udan Tashtari said...

हाँ जनाब, मोहन जी की कवितायें पढ़वाई जायें.

लाल्टू said...

मोहन की कुछ कविताएँ उसके ब्लाग (wordwheel.blogspot.com) पर मिलेंगीं| एक छोटी समीक्षा 'सृजन गाथा' के लिए लिखी है|